Fun & Entertainment Unlimited

हमारे बचपन के संस्कार ही हैं

हमारे बचपन के संस्कार ही हैं 
कि घर में हवन होते समय 
घर के लड़के मंत्र भले ना बोल पायें 
पर स्वाहा इतनी ज़ोर से बोलते हैं कि 
सारी पापी आत्माएं आवाज़ सुनकर ही मर जाती हैं।
# hindi jokes

Share :

Facebook Twitter
Back To Top

statcounter

Powered by Blogger.