Fun & Entertainment Unlimited

Jin baton par ruth jati ho ab tum

जिन बांतों पर रूठ जाती हो अब तुम
 पहले उन्ही पर मुस्कराया करती थी. .
 मेरे बदलने की गुज़ारिश क्यों करती हो,
 जैसे भी हो, अच्छे हो, तुम ही तो समझाया करती थी..।।
# Hindi Love Shayaris

Share :

Facebook Twitter
Back To Top

statcounter

Powered by Blogger.